Breaking

Post Top Ad

Tuesday, August 20, 2019

Independence Day Speech in Hindi

Independence Day Speech in Hindi, Latest Smart Phone



नमस्कार दोस्तों, आप सभी का स्वागत है "www.LatestSmartPhone.in" Blog में जैसा की आप सभी को मालूम है 15th  अगस्त को हमारा देश आजाद हुआ था हमने स्वतंत्र और शुकुन भरी साँस ली थी। इसके लिए कितने वीरों ने  देश को स्वतत्र कराने में अपने जान की आहुति दे दी उन्ही को याद करते हुए.

 मैंने "Independence Day Speech in hindi"  भाषण बनाया है उम्मीद है आप सभी को पसंद आएगा। 

स्वतंत्रता दिवस भाषण :- Independence Day Speech in Hindi



"भारत माता की जय"
मेरे सभी सम्मानित आदरणीय गुरु, माता पिता को  हमारा प्रणाम और हमारे प्रिय मित्रो को नमस्कार, हम आज इस महान दिन को जश्न के रूप में मनाने के लिए एकत्रित हुए है जैसा कि हम सभी जानते है इस दिन को हमारा देश आज के आजाद हुआ था। स्वतंत्रता दिवस भारत के सभी नागरिको के लिए महत्वपूर्ण दिन है और इतिहास में यह दिन स्वर्णिम अक्षरों में वर्णित है यह वह दिन है जिसे हमें स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा कई वर्षो के संघर्ष के बाद अंग्रेजो के शासन से आजाद कराया। इसी लिए हम लोग इस दिन को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते है साथ ही हम उन महान सेनानियों को याद करते है जिन्होंने अपनी जान की आहुति देकर इस आजाद भारत का निर्माण किया।

अंग्रजो के शासन से भारत को आजादी 15th अगस्त 1947 को मिली। आजादी के बाद हमें अपने स्वयं के देश, हमारी मातृभूमि में हमारे सभी मौलिक अधिकार प्राप्त हुए। हमारे भाग्य की प्रशंसा करनी चाहिए कि हमने एक स्वतंत्र भारत में जन्म लिया और हम सभी को भारतीय होने पर गर्व होना चाहिए। स्वतंत्र भारत का इतिहास हमें बताता है कि हमारे पूर्वजो ने कड़ी मेहनत किया और अंग्रेजो के क्रूर व्यवहार को सहन किया। हम यहाँ बैठ कर इसकी कल्पना भी नहीं कर सकते कि अंग्रेजो के शासन से भारत की आज़ादी कितनी मुश्किल थी। इस आजादी के लिए कितने सारे स्वतंत्रता सेनानी अपनी जान की बलिदानी दी और कई दशकों तक संघर्ष किया।

सबसे पहले अंग्रेजो के सेना में एक भारतीय सैनिक (मंगल पांडेय) आजादी की आवाज उठाई और बाद में कई स्वतंत्रता सेनानी आजादी के लिए कूद पड़े और देश को आज़ाद कराने के लिए अपना जीवन कुर्बान कर दिए। हम भगत सिंह , खुदी राम बोस और चंद्रशेखर आज़ाद के बलिदानों को कभी नहीं भूल सकते जिन्होंने देश को आज़ाद कराने के लिए अपने जीवन के शुरुआती उम्र में देश के लिए जान गवा दी।

हम जवाहर लाल नेहरू और गांधीजी को कैसे भुला सकते है , जिन्होंने हमें अहिंसा का पाठ  पढ़ाया।  और वह अकेले ऐसे व्यक्ति थे जो अहिंसा के रास्ते पर चलकर  स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए भारत का नेतृत्व किया। और  लम्बे संघर्ष के बाद हमें आज़ादी मिली।

हम भाग्यशाली है कि हमारे पूर्वजों ने अपनी जान देकर हमारे लिए एक स्वंत्रत भारत का निर्माण किया जिसमे आज हम शांति खुशहाली आज़ादी से रह रहे है हम बिना डरे रात को सो सकते है कही भी घूम सकते है हम स्कुल में पढ़ सकते है। 

हमारा देश हर क्षेत्र प्रौद्योगिकी, शिक्षा, खेल  और विभिन्न क्षेत्रो में बहुत तेजी से विकास कर रहा है जो आज़ादी से पहले मुश्किल था। हाँ हम आज़ाद है लेकिन हमें अपने देश की जिम्मेदारियों से मुक्त नहीं होना चाहिए। और देश का एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते हमें हमेशा आपात स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहना चाहिए।


जय हिन्द, भारत माता की जय, वंदे मातरम

No comments:

Post a Comment

Please Comment and Share our Website / Article Thanks

Post Bottom Ad

Pages